AYODHYA मंदिर की ऐसी सुरक्षा आपने कहीं नहीं देखी होगी जो राम मंदिर की है अचूक है यह सुरक्षा

BY MANJEET       21/01/2024 

अयोध्या (AYODHYA) में बीते दिनों तीन संदिग्धों की गिरफ्तारी के बाद से अयोध्या हाईलाइट मोड पर है। यहां की सुरक्षा पुख्ता करने के लिए तकनीक इंटेलिजेंस और फोर्स का इस्तेमाल किया गया है। अयोध्या में ऐसी तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। कि अगर कोई हिस्ट्रीशीटर मंदिर परिसर के पास पहुंचता है। तो उसे चंद सेकंडों में गिरफ्तार कर लिया जाएगा आम लोगों के बीच में यूपी पुलिस के जवान और अधिकारी सिविल ड्रेस में होंगे।

अयोध्या में हर व्यक्ति की गतिविधि पर पैनी नजर रखी जा रही है। अयोध्या मंदिर से 2 किलोमीटर से ही लोगों के घरों पर नजर रखी जा रही है। लोगों के चारों तरफ पुलिस बल तैनात है साथ ही गरुड़ ड्रोन से निगरानी की जा रही है। 

AYODHYA मंदिर की ऐसी सुरक्षा आपने कहीं नहीं देखी होगी जो राम मंदिर की है अचूक है यह सुरक्षा
AYODHYA मंदिर की ऐसी सुरक्षा आपने कहीं नहीं देखी होगी जो राम मंदिर की है अचूक है यह सुरक्षा

अयोध्या में हर व्यक्ति की गतिविधि पर पैनी नजर रखी जा रही है। अयोध्या मंदिर से 2 किलोमीटर से ही लोगों के घरों पर नजर रखी जा रही है। लोगों के चारों तरफ पुलिस बल तैनात है साथ ही गरुड़ ड्रोन से निगरानी की जा रही है। आईए जानते हैं,अयोध्या राम मंदिर की सुरक्षा कैसी रहने वाली है। यह सुरक्षा अचूक है। इस सुरक्षा का वेदना किसी भी सुरक्षा को भेजा जा सकता है। राम मंदिर की सुरक्षा 7 लेयर में की गई है। जिसको भेद पाना मुश्किल ही नहीं नामुमकिन भी है।

क्या कहना है प्रशांत कुमार डीजी लॉ एंड ऑर्डर अयोध्या (AYODHYA)

 अयोध्या ( AYODHYA) में सुरक्षा भुगतान करने के लिए रॉ के अधिकारी भी अयोध्या (AYODHYA) में पहुंच चुके हैं। साथ ही गृह मंत्रालय भी यहां की सुरक्षा व्यवस्था पर पैनी नजर बनाए हुए है। यह एक ऐतिहासिक पल है। उत्तर प्रदेश पुलिस और उत्तर प्रदेश की आम जनता के लिए और जो कुछ ड्यूटी ऐसी भी होगी जहां पर हमें अपने सॉफ्ट स्किल, और मधुर व्यवहार से आम जो दर्शनार्थ आएंगे उनके दिल को जितना है, तो ऐसी जगह पर जहां पर की सामान्य जनता या सामान्य श्रद्धालु जाएंगे वहां पर पुलिस की अलग ड्रेस कोड बनाया गया है।  

 यह सारे लोग बिना हथियारों के होंगे क्योंकि अन्य जो ड्यूटी होगी वह हथियार के साथ वह वर्दी में होगी लेकिन हम लोगों ने इस व्यवस्था में टेक्नोलॉजी का भी बहुत इस्तेमाल किया है। और हम कैमरे से सब पर निगाह रखेंगे और हमारे जो सिविल ड्रेस में अधिकारी और कर्मचारी रहेंगे, वह यह सुनिश्चित करेंगे कि अपने आने वाले श्रद्धालुओं को किसी तरह की कोई कठिनाई न हो, और उनके जो भी समस्याएं होंगी वह मौके पर दूर किया जाएगा।कुछ प्रशिक्षु आईपीएस ऑफिसर जो विभिन्न राज्यों से भी आए हैं। उनकी भी ड्यूटी लगाई गई है।

AYODHYA में राम मंदिर बनने के बाद भारत की ईकानमी को सजीवनी देखें कितना होगा रोजगार

जिससे कि अन्य प्रदेशों से आने वाले विभिन्न भाषा को बोलने वाले जो श्रद्धालु आएंगे उनसे भी हम अच्छे तरीके से प्रयोग किया जा रहा है।  इस तरह का प्रयोग 2019 के महाकुंभ में भी किया गया था अब मुझे पूरी आशा है। कि उत्तर प्रदेश पुलिस जो जिम्मेदारी और चुनौती मिली है उस चुनौती को स्वीकार करते हुए इस अग्नि परीक्षा में हम सफल होंगे 22 जनवरी को श्री राम लला  की प्राण प्रतिष्ठा है ऐसे में राम भक्तों का तांता रहने वाला है।

भीड़ के दौरान सुरक्षा व्यवस्था में किसी भी तरह से कोई चूक ना हो इसलिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल किया जा रहा है। बता दे कि यह पहली बार इसका इस्तेमाल किया जा रहा है।  इसके अलावा 12000 से ज्यादा पुलिसकर्मी और 10000 से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे से निगरानी की जा रही है। 

पीयूष मोर्डिया एडीजी, लखनऊ जोन AYODHYA 

 हमने विभिन्न प्रकार के इन्नोवेशंस करने का प्रयास किया है। इसी क्रम में यह जो ड्रोन हैं। इसके  माध्यम से लोगों को संबोधित भी कर सकते हैं। ड्रोन को ले जाकर जहां भीड़ खड़ी है वहां पर ऊपर ले जाकर अपनी आवाज को वहां तक पहुंचा सकते हैं। प्रयास यह कि वह प्रत्येक व्यक्ति जिनके लिए वह निर्देश हैं। उन तक पहुंच पाए साथ ही यह ड्रोन पेट्रोलियम का भी काम करेगा गश्त  का भी काम करेगा और इसके द्वारा जो इलाके हैं। और जहां पर भीड़ है। 

तो देख ही पाएंगे साथ ही अपना निर्देश भी उन लोगों तक अपनी आवाज के माध्यम से ड्रोन में लगे स्पीकर के माध्यम से पहुंच पाएंगे तो यह पहली बार AYODHYA पुलिस ने प्रयास किया हैं। की ये  जो दो इनवेटर है, इनकी  मदद से मुझे विश्वास है। 

 कि अलग-अलग जो भांति-भांति के हम प्रयास कर इन उपकरणों का इस्तेमाल करें।  वे सभी हमारे लिए व्यवस्था को बेहतर बनाने में जो है। काफी सार्थक सिद्ध होंगे सुरक्षा को लेकर क्या-क्या व्यवस्था की गई है।  जानते हैं, इस माध्यम से अयोध्या में सुरक्षा इतनी टाइट कर दी गई है। कि यहां पर बाहरी लोग प्रवेश नहीं कर सकते हैं। अयोध्या( AYODHYA) में सिर्फ अयोध्या के रहने वालेऔर उन लोगों को प्रवेश दिया जाएगा जिन्हें पास प्रशासन के द्वारा प्रदान कराया गया है।

मनोज कुमार शर्मा डीआईजी एडीजी लखनऊ जोन AYODHYA 

प्राण प्रतिष्ठा समारोह जो AYODHYA में  22 जनवरी को संपन्न होने जा रहा है। उस दृष्टिकोण से हमारे यहां पर तीन टीम लगी गई हैं। एक यह कैंप पुलिस की। सी वारेन टीम का कैंप है और आपकी जानकारी के लिए बता दे। कि यह बिल्कुल मंदिर प्रांगण के जो मुख्य दरवाजा है। उसके नजदीक है लोकल प्रशासन और पुलिस के साथ संबंध  स्थापित करके स्ट्रैटेजिक लोकेशन चिन्हित करके पुलिस ने यहाँ इस टीम को लज्ञ हैं। इसके अलावा पुलिस की यहाँ डॉग  टीम और हैं। 

वह भी यहां से नजदीक ही लगाई हुई हैं। और एक हमारी सिक्योरिटी डिजास्टर यानी जल संबंधित जितनी भी आपदाएं हैं। उनसे निपटने के लिए भी एक टीम हैं। वह टीम घाटों पर तैनात की गई  है। इस तरीके से तीन टीम  यहां पर काम करने के लिए लगाई गई हैं। कहां कौन है यूपी पुलिस की तरफ से तीन डीआईजी अयोध्या में लगाए गए हैं 17 आईपीएस और शॉप सीपीएस स्टार के अधिकारी लगाए गए हैं 325 इंस्पेक्टर 800 सब इंस्पेक्टर और 10000 से ज्यादा अधिक कांस्टेबल यहां पर तैनात हैं।

2 thoughts on “AYODHYA मंदिर की ऐसी सुरक्षा आपने कहीं नहीं देखी होगी जो राम मंदिर की है अचूक है यह सुरक्षा”

Leave a comment