दीया कुमारी : राजस्थान की अगली मुख्यमंत्री राजघराने से दिलचस्प हैं प्रेम कहानी भी

दीया कुमारी : दीया कुमारी मान सिंह-II की पोती हैं। ये जयपुर के राजघराने के अंतिम शासक थे। आज दीया कुमारी राजनीति का जाना माना नाम बन चुका हैं। ये वर्तमान में राजसमंद से भाजपा की सांसद भी हैं। 2023 के विधानसभा चुनावों में इन्होंने विधाधर विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की हैं।

दीया कुमारी : राजस्थान की अगली मुख्यमंत्री राजघराने से दिलचस्प हैं प्रेम कहानी भी
दीया कुमारी : राजस्थान की अगली मुख्यमंत्री राजघराने से दिलचस्प हैं प्रेम कहानी भी

राजस्थान की राजनीति में कयास लगाए जा रहे हैं कि दीया कुमारी को भावी मुख्यमंत्री बनाया जा सकता हैं। इन्होंने 2023 के चुनावों में अपने विरोधी कॉंग्रेस पार्टी के सीताराम अग्रवाल को 71,368 वोटों से हराया हैं। इस चुनाव में इन्होंने ” जयपुर की बेटी ” और ” राजकुमारी जो सड़कों पर चलती हैं ” के तौर पर पेश करके वोट मांगे थे।

कौन हैं दीया कुमारी

दीया कुमारी जयपुर राजघराने के महाराजा सवाई सिंह और महारानी पद्मिनी देवी की पुत्री हैं। इनका जन्म 30 जनवरी 1971 में जयपुर में हुआ था। ये अपने माता-पिता की इकलौती संतान थी। 1994 में इनका विवाह नरेंद्र सिंह के साथ हुआ जिनसे इन्हे तीन संताने हैं। इनके दो पुत्र और एक पुत्री हैं। इनके बड़े बेटे पद्मनाथ सिंह को 22 नवंबर 2002 को युवराज घोषित किया गया था। इनके छोटे बेटे का नाम लक्ष राज सिंह हैं और बेटी का नाम गौरवी कुमारी हैं।

परियों जैसी थी दीया कुमारी की प्रेम कहानी

दीया कुमारी जयपुर राजघराने की राजकुमारी हैं। लेकिन इन्होंने बेहद ही आम आदमी से शादी की थी। इनका प्रेम-विवाह था। इन्होंने चुपचाप से नरेंद्र सिंह से कोर्ट में विवाह कर लिया था और कम से कम शादी के दो साल बाद अपनी माँ को बताया था कि इन्होंने शादी कर ली हैं।

राजकुमारी दीया जब राजमहल के अकाउंट का काम देख रही थी तभी उनकी मुलाकात नरेंद्र सिंह से हुई थी। अपने ब्लॉग पोस्ट ” रॉयल्टी ऑफ राजपूताना ” में इन्होंने खुद अपनी प्रेम कहानी के बारे बताया हुआ हैं। इन्होंने लिखा हैं,” मैं जयपुर राजघराणे से हूँ लेकिन मैंने सब जगह अपने दोस्त बनाए हैं। मैं 18 साल की उम्र में पहली बार नरेंद्र सिंह से मिली थी। मेरे पति न तो हमारे महल में कैशीयर थे न ही मेरे ड्राइवर थे।

मेरी शादी परियों की कहानी जैसी हैं। मेरे पति चारटेड अकाउन्टन्ट थे। अपनी पढ़ाई की सिलसिले में नरेंद्र सिंह एसएमएस म्यूजियम ट्रस्ट के अकाउंट सेक्शन में जॉइन किया था। वे यहाँ तीन महीने रहे। मैं पहली बार उनसे महल में ही मिली थी और उनकी सादगी और ईमानदारी से बहुत प्रभावित हुई थी।

6 साल तक एक-दूसरे को जानने के बाद 1994 में हम दोनों ने आर्य समाज मंदिर में शादी कर ली। बहुत सारे उतार-चड़ाव आने के बाद दोनों के परिवार वाले माँ गए और 1997 में राजकुमारी का भव्य विवाह हुआ। लेकिन यह शादी भी सही नहीं रही। कुछ साल पहले दोनों के बीच मनमुटाव की खबर आने लगी थी।

बाद में दोनों ने जयपुर के फॅमिली कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दाखिल कर दी थी और साल 2018 में दोनों का तलाक हो गया था।

दीया कुमारी का राजनीतिक जीवन

दीया कुमारी भाजपा पार्टी का जाना माना नाम हैं। इन्होंने 2013 में पार्टी जॉइन की थी। 2013 में ही इन्होंने सवाई माधोपुर से विधानसभा सीट से जीत हासिल की थी। यह उनके राजनीतिक जीवन की शुरुआत थी। इसके बाद इन्होंने 2019 में सांसद का चुनाव लड़ा और राजसमंद से भाजपा की सांसद बनी। अब इन्होंने 2023 में राजस्थान के विधानसभा चुनावों में विधाधर विधानसभा क्षेत्र से जीत हासिल की हैं।

दीया कुमारी की कुल संपत्ति

दीया कुमारी बेशुमार दौलत की मालकिन हैं। इनकी 92 मिलियन डॉलर की नेट वर्थ हैं। दिया बहुत सारी संपत्तियों, होटल और स्कूल का कामकाज संभालती हैं। इनके दो ट्रस्ट हैं : महाराजा सवाई मान सिंह द्वितीय संग्रहालय ट्रस्ट, जयपुर और जयगढ़ पब्लिक चैरिटेबल ट्रस्ट। इनके दो स्कूल भी हैं। इसके साथ-साथ ये तीन होटल की मालकिन भी हैं।

डार्क पैटर्न क्या हैं, आइए जाने कैसे ये ग्राहकों को अपने झांसे में फसाता हैं?

वसुंधरा या दीया कुमारी

विधानसभा चुनावों का परिणाम आने के बाद अब यह कयास लगाए जा रहे हैं की भाजपा दीया को मुख्यमंत्री का पद संभाल सकती हैं। लेकिन दूसरी टफ यह भी अंदाजा लगाया जा रहा हैं कि राजस्थान की राजनीति की पुरानी और कद्दावर नेता वसुंधरा को मुख्यमंत्री बनाया जा सकता हैं, लेकिन अभी कुछ भी निश्चित नहीं हुआ हैं।

 

 

1 thought on “दीया कुमारी : राजस्थान की अगली मुख्यमंत्री राजघराने से दिलचस्प हैं प्रेम कहानी भी”

Leave a comment