हरियाणा पुलिस ने 2023 में बचाए 76.85 करोड़ रुपये साइबर ठगों से

BY MANJEET                  03/01/2024

हरियाणा खबर : जैसे की हम सब जानते हैं। हमारी हरियाणा पुलिस बहुत सतर्कता से काम करती हैं। इस के साथ आगे बड़ते हुते राज्य पुलिस ने साइबर अपराधों से आम जन मानस को बचाया हैं। हरियाणा राज्य की पुलिस ने बीते वर्ष 2023 में साइबर अपराधियों पर शिकंजा कैसा रखा है.पिछले पिछले साल हरियाणा राज्य में चार लाख 11 हजार 299 लोग साइबर अपराध के तहत धोखाधड़ी का शिकार हुए थे।

हरियाणा पुलिस ने 2023 में बचाए 76.85 करोड़ रुपये साइबर ठगों से
हरियाणा पुलिस ने 2023 में बचाए 76.85 करोड़ रुपये साइबर ठगों से

साइबर अपराध रोकने में सक्रिय नोडल टीमों और जिला पुलिस के सामूहिक प्रयासों साइबर अपराधियों द्वारा ठगे गए आम जनता के 76.85 करोड़ पर बचाने में सफलता भी मिली है। बीते साल 1903 साइबर तो को गिरफ्तार करें सलाखों के पीछे पहुंचाने पुलिस कामयाबी रही थी। पुलिस ने जलसा जो के1 लाख 36 हजार 347 बैंक खाता को फ्रिज किया है जबकि AI सॉफ्टवेयर से नुहू मेवात में संदिग्ध चार लाख 96565 मोबाइल नंबरों की पहचान की गई है। जो साइबर अपराधों में इस्तेमाल किए जाते हैं।

हरियाणा महानिदेशक शत्रु जीत कपूर ने बताया 

महानिदेशक शत्रु जीत कपूर व ADGP साइबर क्राइमआप सिंह के निर्देश में बैंकिंग क्षेत्र के एकीकरण पर राज्य पुलिस अब काम कर रही है।इसके तहत बैंकों द्वारा अपने प्रतिनिधि पंचकूला में स्थित 1930 साइबर हेल्पलाइन में नियुक्त किया जा रहे हैं। इस समय में एचडीएफसी बैंक व पंजाब नेशनल बैंक के प्रतिनिधि नियुक्त किया जा चुके हैं। और अन्य बैंकों के साथ  बाद बातचीत चल रही है।  इस अनूठे प्रयोग  से साइबर अपराध होने की स्थिति में ही रिस्पांस  टाइम घट जाएगा और आम जन की मेहनत की कमाई बचाई जा सकेगी।

इसके साथ साइबर अपराध संबंधी मामलों में तत्परता से कार्रवाई करने के लिए हेल्पलाइन नंबर 1930 को हरियाणा 112 से इंटीग्रेटेड किया गया है। हरियाणा राज्य मेंसाइबर हेल्पलाइन टीमों में वर्तमान में 70 साइबर प्रशिक्षित पुलिसकर्मियों की टीम कार्य कर रहे हैं जिन्हें पिछले वर्ष 4 लाख 11534 कालों का जवाब दिया था। विभिन्न शिकायतों पर कार्रवाई करते हुए 2527 मामले तथा 113801 शिकायत दर्ज की गई थी। 

हरियाणा मेंस्वयंसेवक भी मददगार है साइबर अपराध को रोकने में 

पुलिस महानिदेशक शत्रु जीत कपूर ने बताया कि साइबर नोडल टीमों में मैं विभिन्न शिकायत में मिले साइबर ठगों के 62 हजार 242 नंबरों को राष्ट्रीय साइबर अपराध रिर्पोटिंग पोर्टल के माध्यम से ब्लॉक कर दिया गया है। साइबर ठगों के 1 लाख 76347 बैंक खाते फ्रीज करवाए गए हैं। हरियाणा प्रदेश पुलिस ने वर्ष भर में 3971 जन संपर्क कार्यक्रम आयोजित  किए गए,  जिसमें से 21 लाख से अधिक लोगों तक पहुंचाते हुए उन्हें साइबर अपराधों से बचाव के उपाय के बारे में जागरूक किया गया।

साइबर अपराधों से  निपटने के लिए सामुदायिक भागीदार को बढ़ाते हुए हरियाणा पुलिस के साथ 554 स्वयंसेवकों को पंजीकृत किया जा चुका है जो इस अपराध को रोकने में हरियाणा पुलिस की मदद करेंगे। 

पेट्रोल पंप संचालकों और अपराधियों का मिला-जुला होना

राज्य के पेट्रोल पंप संचालक और डिजिटल लेनदेन करते हुए सावधान  हो जाए, क्योंकि  उनकी जरा सी लापरवाही  उन्हें जेल की सलाखों के पीछे पहुंचा सकती है। पुलिस द्वारा प्रदेश के सभी पेट्रोल पंप के संचालक और सेट रहने के लिए कहा गया है। कि वह किसी भी व्यक्ति से डिजिटल लेनदेन करते समय सावधान रहे क्योंकि वह व्यक्ति साइबर अपराधी भी हो सकता है।

हरियाणा पुलिस महानिदेशक शत्रु जीत कपूर ने बताया कि हरियाणा पुलिस संज्ञान में आया है। कि साइबर अपराधी डिजिटल माध्यम से साइबर धोखाधड़ी का बैंक खातों में राशि ट्रांसफर करवाते हैं। और उन्हें किसी भी पेट्रोल को पर जाकर पेट्रोल पंप संचालकों से मेलजोल  नगदी निकलवा लेते हैं जो कि गलत है ऐसे में सभी पेट्रोल पंप संचालकों को सतर्कता रहने की जरूरत है क्योंकि उनकी जरा सिल भारी में सलाखों के पीछे पहुंचा सकती है डीजीपी ने बताया कि हाल ही में एक ऐसा मामला आया है

क्या-क्या करना चाहिए साइबर फ्रॉड से बचने के लिए 

  1. ऑनलाइन खरीदारी करते समय जरूर देखें  वेबसाइट के यूआरएल में HTTPS जरूर हो। 
  2. कोई भी व्यक्ति ऐसी वैसी एप्लीकेशन को डाउनलोड करने के लिए कहता है। तो उसे डाउनलोड ना करें। KYC करने के लिए आपसे कहे की एक या 2 रुपए आपके खाते में अकाउंट में ट्रांसफर करने के लिए कहे तो ऐसा ना करें। 
  3. किसी भी अननोन नंबर से आपका फोन पर कोई मैसेज या व्हाट्सएप मैसेज पर कोई भी लिंक या फोटो आए तो उसे क्लिक न करें। 
  4. साइबर धोखाधड़ी होने की स्थिति में अपने बैंक कस्टमर केयर नंबर पर कॉल करें और अपने बैंक को सूचित करना बहुत जरूरी जिसे आपको बड़ी हानी से बचाया जा सके है। 
  5. एटीएम से पैसे निकालने में कभी भी किसी की मदद लेनी पड़े तो या तो बैंक कर्मचारी हो या एटीएम बूथ में मौजूद जो गार्ड होता है उसकी सहायता ले। 
  6. किसी भी व्यक्ति के साथ अपने बैंक डिटेल एटीएम कार्ड नंबर कार्ड की एक्सपायरी व कार्ड पर पिछले तीन डिजिट सीसीबी नंबर को किसी के साथ शेयर ना करें। 
  7. एटीएम से पैसे निकलते समय सावधान रहे तभी आपका पैसा सुरक्षित रहेकोई भी व्यक्ति कभी भी किसी एटीएमसे कार्ड के द्वारा ट्रांजैक्शन कर तो उसके पी कोन बताएं और नहीं दिखाएं। 
  8. ऑनलाइन नेट बैंकिंग उसे करते समय ध्यान रहेगी ट्रांजैक्शन हमेशा अपने पर्सनल कंप्यूटर लैपटॉप या फोन से ही करनी चाहिए। 

डार्क पैटर्न क्या हैं, आइए जाने कैसे ये ग्राहकों को अपने झांसे में फसाता हैं? 

Leave a comment