Indian Premier League (IPL) की बढ़ती लोकप्रियता से खुलती इन 5 करियर ऑपच्यरुनिटी की राहें

BY MANJEET          27/03/2024

Indian Premier League :  पहली बार आईपीएल की शुरुआत सन 2008 में हुई थी। तब से लेकर अब तक 2024 इंडियन प्रीमियर लीग  का यह 17वां सीजन चल रहा है। आईपीएल ने केवल क्रिकेट प्लेयर्स को एक नई पहचान दी है। बल्कि इससे जुड़े दूसरे फील्ड में भी युवाओं को करियर की नई पहचान दी है।

Indian Premier League : ने पिछले कुछ सालों में नजाने  कितनी युवाओं जिंदगी बदल दी है।जो खिलाड़ी अनजान थे। आज इस आईपीएल ने उन खिलाड़ियों को खास सेलिब्रिटी बना दिया है। सूर्य कुमार,शुभमन गिल,रिंकू सिंह,संजू सैमसन,रियान पराग,यशस्वी जयसवाल,जैसे न जाने कितने खिलाड़ी जिनको हम समझे जानते हैं। आईपीएल के प्रदर्शन की वजह से भारतीय क्रिकेट टीम में भी खेलने का मौका मिला है। और अच्छी कमाई भी कर रहे हैं। 

Indian Premier League की ही देन है कि अधिक से अधिक खिलाड़ियों को अपना कौशल दिखाने का मौका मिला है।एक खबर के अनुसार आईपीएल की हर टीम के पास जिनकी संख्या 10 है। इन सब के पास खिलाड़ियों की संख्या30 से 35 है। इसके बाद अलग से रिजर्व खिलाड़ी,अलग से हर टीम का अपना बैटिंग,बॉलिंग और फील्डिंग कोच,फिटनेस ट्रेनर,फिजिशियन,अन्य प्रोफेशनल की भी जरूरत पड़ती है। आज बात करते हैं,इन फील्ड्स के बारे में जो भी अपना कैरियर बना सकते हैं। 

Indian Premier League में करियर 

यदि आप एक अच्छा खिलाड़ी नहीं बन सके हो तो इसमें निराश मत होना,क्योंकि क्रिकेट से जुड़े आईपीएल में और भी बहुत सारे ऐसे माध्यम है। जिसमें आप काम करके अच्छा पैसा कमा सकते हो। जैसे कि आप कोच ,क्रिकेट विशेषज्ञ,क्रिकेट स्कोर,फिजिकल ट्रेनर,क्रिकेट पत्रकार,अंपायर, कॉमेंटेटर, आईपीएल खिलाड़ियों का एनालिसिस करने के लिए अपना खुद का यूट्यूब चैनल भी बना सकते हैं। 

राजस्थान रॉयल्स IPL 2024 की वो प्लेयिंग 11 जो बन सकती है इस बार की आईपीएल चैंपियन

  1. कॉमेंटेटर – Indian Premier League में कमेंटेटर की भूमिकाबहुत ही महत्वपूर्ण होती है। वह मैच के हर घटना को संवेदनशीलता से व्याख्या करते हैं और दर्शकों को मैच कासुखद अनुभव करते हैं। कमेंटेटर का ज्ञान और अनुभव मैच में चल रही घटना को व्याख्या करने की क्षमता कमेंटेटरों को एक उच्च पर स्थान प्रदान करती है। भारत में हिंदी की कमेंट्री करने के लिए आकाश चोपड़ा,नवजोत सिंह सिद्धू ,वीरेंद्र सहवाग,और भी बहुत सारे कमेंटेटर हैं। जो दर्शकों को मैच के हाल के बारे में बताते रहते हैं। कॉमेंटेटर बनने के लिए कोई खास उपलब्धि की आवश्यकता नहीं है। इसके लिए बस क्रिकेट का अनुभव होना ही काफी है। 
  2. अंपायर – वैसे तो आजकल अंपायर बनने के लिए स्पेशल कोर्स भी करवाए जा रहे हैं। पुराने समय में तो अनुभव के आधार पर ही आप अंपायर बन सकते थे। जो लोग क्रिकेट की बारीक और सभी तकनीकियों के बारे में जानते हैं वह हैं अपना करियर इसमें आगे बढ़ा रहे हैं। आईपीएल जैसे फॉर्मेट में अंपायर्स की जरूरत बहुत देखी जा रही है। आईपीएल 2024 के एक मैच में 14 अंपायर्स काम करते हैं। जिनका फैसला बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। 
  3. क्रिकेट विश्लेषक – क्रिकेट विश्लेषकों का काम मैच से पहले और मैच के बाद मैच और खिलाड़ियों के विभिन्न पहलुओं पर विश्लेषण करना होता है। यह टीम के प्रदर्शन,रणनीतियां,समय पर लिए गए निर्णय, इन सभी बिंदुओं पर न्यूज़ या सोशल मीडिया के माध्यम से मैच का विश्लेषण करते हैं। 
  4. फिजियोथैरेपिस्ट – Indian Premier League में फिजियोथैरेपिस्ट का काम खिलाड़ियों की चोट का इलाज और उनके स्वास्थ्य का ध्यान रखना होता है। यह चोट के बाद रिहाबिलिटेशन में खेल खिलाड़ियों के स्वस्थ होने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। फिजियोथैरेपिस्ट बनने के लिए आप 12th के बाद इसकी स्पेशल ऑफ डिग्री कर सकते हो।
  5. स्पोटर्स मेडिसिन प्रैक्टिशनर – क्रिकेट के खेल में चोट लगना आम बात है। इसमें डॉक्टर की भूमिका मैच के दौरान चोट का प्रबंधन,खिलाड़ियों की स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं काप्रबंध करना होता है। यह चल रहे मैच के खिलाड़ी की चोटिल होने की स्थिति में यह सुनिश्चित करता है कि यह आगे खेल सकता है या नहीं। या मेडिसिन देकर पेन से बाहर निकलने में मदद करता है। 

 

Leave a comment