ईरान : में 2 ब्लास्ट आतंकी हमले का अंदेशा, 115 ने जान गवाई घायलों की सख्या 188

BY  MANJEET

ईरान के केरमन शहर में बुधवार को दो धमकाओं में 115 लोगों की मौत हो गई 188 से ज्यादा लोग घायल हो गए। धमाका ईरान में रिवॉल्यूशनरी गार्ड  दिवगत कमांडर जनरल कासिम सुलेमानी की बरसी के मौके पर आयोजित कार्यक्रम हुए दो विस्फोट हुए,ईरान के स्वास्थ्य मंत्री ने एक इंटरव्यू में कहा है। यह विस्फोट ईरानी धरती परअब तक का हुआ सबसे बड़ा आतंकी हमला माना जा रहा हैं। धमाका पूर्व जनरल कासिम सुलेमानी के मकबरे के पास हुआ है। बृहस्पतिवार को राष्ट्रीय शोक घोषित कर दिया गया है। 

ईरान : में 2 ब्लास्ट आतंकी हमले का अंदेशा, 115 ने जान गवाई घायलों की सख्या 188
ईरान : में 2 ब्लास्ट आतंकी हमले का अंदेशा, 115 ने जान गवाई घायलों की सख्या 188

     धमाका दक्षिणी पूर्व शहर के केरमन में हुआ जहां पर जनरल कासिम सुलेमानी को दफनाया गया था,सुलेमानी का यहां पर मकबरा भी है।आपको बता दिया कि 2020 में अमेरिकी ड्रोन हमले में इराक में सुलेमानी की मौत हो गई थी। हालिए सबूत से पता चल रहा है कोई आतंकी हमला माना जा रहा है। लेकिन किसी भी आतंकवादी संगठन ने इस घटना की जिम्मेदारी नहीं मिली है।

न्यूज़ एजेंसी के मुताबिक दोनों धमका के बीच में लगभग 20 मिनट का अंतर था। पहला धमाका सुलेमानी के मकबरे से लगभग 700 मीटर दूर हुआ दूसरा धमाका सिक्योरिटी चेक पोस्ट के करीब हुआ, बुधवार को जनरल कासिम सुलेमानी की मौत की चौथी बरसी मनाई जा रही थी सुलेमानी को 2020 में  अमेरिका द्वारा ड्रोन हमले मेंजनरल कासिम सुलेमानी कोमार गिराया था। 

सूटकेस में थे बॉम्ब एवं रिमोट से हो रहे थे ऑपरेट ईरान में 

आपको बता दे की ईरान में इस ब्लास्ट की अब तक भी किसी भी आतंकवादी संगठन ने जिम्मेदारी नहीं ली है। न्यूज़ रिपोर्टर के अनुसार एक अमेरिकी अधिकारी से बातचीत में बताया की यह हमला आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के पैटर्न से किया गया है। ईरानी की न्यूज़ एजेंसी तस्लीम के मुताबिकविस्फोट से भर दो सूटकेस कब्रिस्तान के बाहर में गेट पर के पास रखे हुए थे। इसमें रिमोट कंट्रोल की मदद से ब्लास्ट किया गया है। सिक्योरिटी फोर्स के मुताबिक जब भीड़ पहुंचने लगी तो दूसरा धमाका भीड़ में ही हुआ। 

ईरान के सुप्रीमो  लीडर नहीं खाई कसम बदला लेने की

ईरान : में 2 ब्लास्ट आतंकी हमले का अंदेशा,
IRAN : में 2 ब्लास्ट आतंकी हमले का अंदेशा,

ईरान के एक नेता अयातुल्ला खुमानीने हमले का बदला लेने की कसम खाई है। इसका मुंह तोड़ जवाब देनेऔर दोषियों को सबक सिखाने को कहा गया हैं। ईरान सरकार की तरफ से अब तक के इस हमले के लिए किसी को भी दोषी नहीं ठहरा है।हालांकि ईरान के एक कमांडर स्माइली कानी ने कहा है कि हमला इसराइल और अमेरिका के एजेंट द्वारा किया गया हैं। जबकि  कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं है ईरानी सरकार की तरफ से अब तक। 

कौन है कासिम सुलेमानी जिसकी चौथी पुण्यतिथि पर हुआ विस्फोट

  1. ईरानी सेवा प्रमुख थे, कासिम सुलेमानी iran  की सेवा में एक डिवीजन होता है। वहां की सेवा को रिवॉल्यूशन गॉड्स कहा जाता है। इस डिवीजन के बारे में कहा जाता है कि यह iran  के बाहर दूसरे देशों में सिगरेट मिलिट्री ऑपरेशंस चलती है। सुलेमानी 1998 में ईरानी रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स की स्पेशलिस्ट एजेंट की टुकड़ी कुड्स आर्मी के प्रमुख बने थे। 
  2. जनरल कासिम सुलेमानी इस यूनिट के डायरेक्टर डायरेक्टर थे। 2020 में अमेरिकी ड्रॉनजल्दी हमले से मरने से पहले उन्होंने सऊदी अरब और कुछ अन्य देशों में भी सीक्रेट्स ऑपरेशंस में भाग लिया था। 
  3. कासिम सुलेमानी की हत्या 3 जनवरी 2020 को हुई थी। ऐसा बताया जाता है, कि सीक्रेट विजिट पर बागड़ गए हुए थे। एक मीटिंग के बाद जब वह कर में बैठने लगे तो एक ड्रोन मिसाइल उनकी कर से आकर टकराई और इस हमले में सुलेमानी समेत कई लोग मारे गए। 
  4. जनरल कास्ट इन सुलेमानीईरान में आज भी नेशनल हीरो माने जाते हैं। ठीक समय था जब देश में उनकी लोकप्रिय सबसे ज्यादा मानी जाती थी
  5. रिसर्च फाउंडेशन की एक रिपोर्ट के मुताबिक की सुलेमानीजब जिंदा थे। तो वह सऊदी अरब के दुश्मनों की मदद करते थे। सीरिया और इराक को सऊदी अरब के खिलाफ किया खड़ा किया था।  इसके बाद वह यमन के युद्ध विद्रोहियों की हर तरह से मदद करते थे। 

पहले चीन ने APPLE को किया था बैन अब अमेरिका ने APPLE वॉच 2 अल्ट्रा और 9 series को किया

Leave a comment